आपणी भासा म आप’रो सुवागत

'आपणी भासा' ई-पत्रिका में मारवाड़ी समाज से जुड़ी जानकारी, सामाजिक बहस व समाज में व्याप्त कुरीतियोँ के प्रति सजग इस पेज पर आप समस्त भारतीय समाज के संदर्भ में लेख प्रकाशित करवा सकतें हैं। हमें सामाजिक लेख, कविता, सामाजिक विषय पर आधारित कहानियाँ या लघुकथाऎं आप मेल भी कर सकतें हैं। सामाजिक कार्यक्रमों की जानकारी भी चित्र सहित यहाँ प्रकाशित करवा सकतें हैं। मारवाड़ी समाज से जुड़ी कोई भी संस्था हमारे इस वेवपेज पर अपनी सामग्री भेज सकतें हैं। आप इस ब्लॉग के नियमित लेखक बनना चाहतें हों तो कृपया अपना पूरा परिचय, फोटो के साथ हमें मेल करें।- शम्भु चौधरी E-Mail: ehindisahitya@gmail.com



बुधवार, 18 जून 2008

राजस्थानी साहित्यकार परिचय - 2


श्री जय कुमार 'रूसवा' का जन्म 10 अगस्त 1957 को रतनगढ़ ( रजस्थान) में हुआ। सन् 1971 से आप कोलकात्ता में स्थायी निवास। आपने कविता, छन्द, दोहे, मुक्तक, गीत, गजल क्षणिकाएं, कहानी, लघुकथा आदि कई विधाओं में रचनाधर्मिता का पालन करने का साथ-साथ हास्य-व्यंग्य कवि के रूप में भारतवर्ष में ख्याति प्राप्त की है।
भारत भर के अनेकों पत्र-पत्रिकाओं में 1980 से अबतक हजार से भी अधिक पृथक-पृथक विधाओं की रचनाएं प्रकाशित।
तीन दर्जन से भी अधिक काव्य-संकलनों में आपकी रचनाऎं समाहित। देश के विभिन्न शहरों में मंच का संचालन।
आकाशवाणी व दूरदर्शन से समय-समय पर रचनाओं का वाचन-अनुवाचन।
उपलब्धियां:
साहित्य सृजन सम्मन-97
काव्य वैभव श्री सम्मान - 99
सांस्कृतिक साहित्य खनन श्रृंखला--सावनेर-द्वारा।
हिन्दी विद्यारत्न भारती सम्मान -98-99
आपकी दो पुस्तक 'हंगामा', 'टुकड़े-टुकड़े सोच' प्रकाशित हो चुकी है।
संपर्क:
66-पाथुरियाघाट स्ट्रीट, कोलकात्ता-700006. मोबाईल : 0-9433272705
http://jaikumarruswa.blogspot.com/

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आप अपनी बात कहें:

मेरे बारे में कुछ जानें: