आपणी भासा म आप’रो सुवागत

'आपणी भासा' ई-पत्रिका में मारवाड़ी समाज से जुड़ी जानकारी, सामाजिक बहस व समाज में व्याप्त कुरीतियोँ के प्रति सजग इस पेज पर आप समस्त भारतीय समाज के संदर्भ में लेख प्रकाशित करवा सकतें हैं। हमें सामाजिक लेख, कविता, सामाजिक विषय पर आधारित कहानियाँ या लघुकथाऎं आप मेल भी कर सकतें हैं। सामाजिक कार्यक्रमों की जानकारी भी चित्र सहित यहाँ प्रकाशित करवा सकतें हैं। मारवाड़ी समाज से जुड़ी कोई भी संस्था हमारे इस वेवपेज पर अपनी सामग्री भेज सकतें हैं। आप इस ब्लॉग के नियमित लेखक बनना चाहतें हों तो कृपया अपना पूरा परिचय, फोटो के साथ हमें मेल करें।- शम्भु चौधरी E-Mail: ehindisahitya@gmail.com



शनिवार, 28 जून 2008

विमल लाठ

जन्म 4 अगस्त सन् 1942, मंडावा (राजस्थान)। शिक्षा: एम.कॉम. एल-एल.बी.। विमल लाठ का कार्यक्षेत्र कोलकाता में अनामिका के साथ काम करते हुए नाना धरातलों पर विकसित हुआ। उनके अभिनय जीवन का प्रारंभ सन् 1959 में हेनरिक इब्सन के नाटक ‘जनता का शत्रु’ में छोटी-सी भूमिका में काम करने से हुआ। अब तक वे करीब 50 नाटकों में अभिनय कर चुके हैं जिनमें उल्लेखनीय हैं रवीन्द्र नाथ ठाकुर का ‘शेष रक्षा’ (1963, निर्देशन: प्रतिभा अग्रवाल), ज्ञानदेव अग्निहोत्री का ‘शुतुरमुर्ग’ (1967), बादल सरकार का एवं इंद्रजीत (1968) तथा पगला घोड़ा (1971), मोहन राकेश का ‘आधे-अधूरे’ (1970)। इन सभी के निर्देशक श्यामानन्द जालान थे। शुतुरमुर्ग में उनकी विरोधीलाल बनाम सुबोधीलाल की भूमिका को बराबर स्मरण किया जाता है। इनके अतिरिक्त बादल सरकार के ही बल्लभपुर की रूपकथा में भूपति राय की मुख्य भूमिका में भी अभिनय किया। प्रथम दौर का अंतिम नाटक था विजय तेंडुलकर का पंछी ऐसे आते हैं, निर्देशक श्यामानन्द जालान (1971)। इसमें उन्होंने अरुण सरनाइक की मुख्य भूमिका निभाई।
श्री विमल लाठजी को उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी का ‘बी एम शाह पुरस्कार’ और मध्य प्रदेश का ‘राष्ट्रीय कालिदास’ से सम्मानित किया गया ।
सन् 1974 में अनामिका द्वारा आयोजित नाट्योत्सव में जयशंकर प्रसाद के चंद्रगुप्त की प्रस्तुति एक चुनौती थी। पूरे परिश्रम के बावजूद प्रस्तुति को सीमित सफलता मिली। केवल महोत्सव में एक प्रदर्शन होकर रह गया। इस प्रस्तुति के बाद निर्देशन में अंतराल रहा, सन् 1978 में शरद जोशी का एक था गधा उर्फ अलादाद खाँ को प्रस्तुत किया। यह प्रस्तुति भी चुनौती थी।
आगामी वर्षों में विमल लाठ ने दया प्रकाश सिन्हा के ‘कथा एक कंस की’ (1979), शंकर शेष के ‘एक और द्रोणाचार्य’(1981), उत्पल दत्त के ‘टीन की तलवार’ (1981, अनु. प्रतिभा अग्रवाल) सोफोक्लीज के ऐंटिगनी (1982, अनु. भवानी प्रसाद मिश्र), भीष्म साहनी के ‘माधवी’ (1986), जयवंत दलवी के ‘हरी अप, हरि’ (अनु. रोहिणी महाजन-प्रतिभा अग्रवाल) आदि नाटकों का निर्देशन किया और करीब-करीब सभी में अभिनय भी किया। इनके अतिरिक्त अनामिका द्वारा प्रस्तुत अन्य नाटकों में भी अभिनय किया जिनमें उल्लेखनीय हैं ‘गोदान’ (1976), ‘आधे-अधूरे’ (1980), ‘नये हाथ’ (1980, पुनः मंचन), ‘रेशमी रूमाल’ (1988), ‘इस पार उस पार’ तथा ‘साँझ ढले’ (1985) आदि। संपर्कः 9433507962
[script code: Bimal Lath]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आप अपनी बात कहें:

मेरे बारे में कुछ जानें: